वन टाइम इन्वेस्टमेंट प्लान म्यूचुअल फंड, सबसे ज्यादा रिटर्न देने वाले इक्विटी म्युचुअल फंड जो एकमुश्त रकम के लिए बहतर हैं
One Time Investment Plan

वन टाइम इन्वेस्टमेंट प्लान: अच्छी वित्तीय स्थिति का निर्माण करने के लिए निवेश (Investment) बेहद आवश्यक हैं। बिना इन्वेस्टमेंट के फाइनेंशियली मजबूत होना थोड़ा मुश्किल हैं। केवल इनकम अधिक होने या कम होने से फाइनेंशियल मजबूती पर इतना प्रभाव नहीं होता हैं। क्योंकि असली प्रभाव इन्वेस्टमेंट का ही होता हैं। जिस तरह बूंद बूंद रिसने से घड़ा खाली हो जाता हैं। उसी तरह छोटे-छोटे खर्चें भी वित्तीय संकट पैदा कर सकते हैं। हालांकि इन ख़र्चो को रोक पाना बहुत मुश्किल है मगर इन सबका सामना करने के लिए आपको फाइनेंशियल मजबूत होना जरूरी है। जिसे इन्वेस्टमेंट के जरिए हासिल किया जा सकता हैं।

सही तरीके व सही जगह किया गया छोटा इन्वेस्टमेंट भी भविष्य में वित्तीय मजबूती प्रदान कर सकता हैं। इसलिए इन्वेस्टमेंट करने से पहले इसके बारे में जान लेना अच्छा साबित होगा। हालांकि निवेशक के अनुसार निवेश के बहुत से विकल्प हो सकते हैं। मगर लोकप्रियता को देखते हुए म्युचुअल फंड निवेश का बहतर विकल्प बनता जा रहा हैं। खासबात ये हैं कि म्युचुअल फंड में वन टाइम इन्वेस्टमेंट या फिर एसआईपी के जरिए निवेश किया जा सकता हैं।

वन टाइम इन्वेस्टमेंट प्लान इन म्युचुअल फंड

वन टाइम इन्वेस्टमेंट करने से पहले आपको अपनी जोखिम सहन करने की सीमाओं को जानना जरूरी हैं। इसके बाद आप अपने मुताबिक अच्छे म्युचुअल फंड में निवेश कर सकते हैं। इन्वेस्टमेंट एकमुश्त रकम या एसआईपी के माध्यम से किया जा सकता हैं।
म्युचुअल फंड की खास बात यें हैं कि यह दोनों तरीकों से निवेश की सुविधा प्रदान करता हैं।
इस पेज में कुछ ऐसे म्युचुअल फंड के बारे में बताया गया हैं, जो वन टाइम इन्वेस्टमेंट के लिए बहतर हो सकते हैं।

क्वांट इन्फ्रास्ट्रंक्चर फंड

इस फंड ने बीते तीन साल में करीब 33.78 फीसदी मुनाफा दिया हैं। इस फंड में वन टाइम इन्वेस्टमेंट (एकमुश्त रकम निवेश) काफी ज्यादा हैं। लगभग 24 फीसदी ऑर्डर वन टाइम इन्वेस्टमेंट के माध्यम से हैं। फंड ने बीते एक साल में 20.47 फीसदी रिटर्न दिया हैं। फंड का रिटर्न बेंचमार्क से अधिक रहा हैं।

क्वांट इन्फ्रास्ट्रंक्चर फंड इक्विटी सेक्टराॅल/थीमेटिक कैटेगरी का फंड हैं। जिसमें निवेश पर जोखिम अधिक हैं। फंड का हायर एल्फा रेश्यो 20.96 हैं
इस फंड का एक्सपेंस रेश्यो 0.58 फीसदी हैं तथा एग्जिट लोड 0.5 फीसदी हैं। हालांकि एग्जिट लोड शुरुआती तीन महीने के लिए ही लागू होता हैं इस अवधि के बाद बैलेंस रीडीम करने पर कोई शुल्क लागू नहीं होता हैं। फंड में न्यूनतम 1,000 रूपए से निवेश किया जा सकता हैं।

फंड की बागडोर मुख्य रूप से वेशव शहग्ल और अंकित ए पांडे संभाले हुए हैं। फंड का पिछले तीन व पांच साल का वार्षिक रिटर्न कैटेगरी रिटर्न से अच्छा रहा हैं हालांकि पिछले एक साल का रिटर्न कैटेगरी रिटर्न से कम रहा हैं। फंड के पास कुल एयूएम (Assets Under Management) 6179 करोड़ रुपए का हैं। वहीं फंड साइज 582 करोड़ रुपए का हैं।

फंड की होल्डिंग की बात करें तो कुल 36 स्टाॅक होल्ड किये हुए हैं, जिसमें सबसे ज्यादा कंस्ट्रक्शन इंडस्ट्री में फंड का इस्तेमाल किया गया हैं। कंस्ट्रक्शन इंडस्ट्री में करीब 25.6 फीसदी रकम निवेशित हैं। जबकि सर्विसेज सेक्टर के स्टाॅक में 20.3 फीसदी रकम का निवेश किया गया हैं। इस फंड का विश्वशनीय स्टाॅक में टाॅप 10 स्टाॅक हैं- वेदांता लिमिटेड, अडानी इंटरप्राइजेज, लायसेन एंड टूब्रो, अडानी पोर्ट, लिंडे इंडिया, IRB इन्फ्रास्ट्रंक्चर, अल्ट्राटेक सीमेंट, स्टेट बैंक ऑफ इंडिया, टाटा कम्यूनिकेशंस, नेशनल एल्यूमीनियम कंपनी।

इसे भी पढ़ें- मल्टीबैगर शेयर लिस्ट: 5 दिन में दिया 63.23 फीसदी का दमदार रिटर्न

केनरा रोबेकों ब्लूचिप इक्विटी फंड

इस फंड ने बीते तीन साल में वन टाइम इन्वेस्टमेंट पर करीब 17 फीसदी वार्षिक रिटर्न दिया हैं। इसका मौजूदा फंड साइज 6,718 करोड़ रुपए का हैं। वैल्यू रिसर्च ऑनलाइन के मुताबिक इस फंड को 5 स्टार रेटिंग दी गई हैं।

इस फंड में न्यूनतम 1,000 रूपए से इन्वेस्टमेंट शुरू की जा सकती हैं। यह एक लार्ज कैप इक्विटी फंड हैं। जिसमें निवेश करने पर रिस्क ज्यादा हैं। फंड में मंथली ट्रेंड ऑर्डर के अनुसार वन टाइम इन्वेस्टमेंट ऑर्डर 15.38 फीसदी हैं। इस तरह से देखा जाए तो फंड में वन टाइम इन्वेस्टमेंट करने वाले इन्वेस्टर्स की संख्या काफी अच्छी हैं।

फंड का एक्सपेंस रेश्यो 0.45 फीसदी हैं। जबकि एग्जिट लोड 1 फीसदी हैं। फंड का एएमयू ₹47,886 करोड़ रुपए का हैं। फंड की अगुवाई विशाल मिश्रा व श्रीदत्त भांडवलदार द्वारा की जाती हैं। फंड का पिछले तीन साल व पांच साल का रिटर्न कैटेगरी रिटर्न से ज्यादा रहा है जबकि पिछले एक साल का रिटर्न कैटेगरी रिटर्न से कम रहा हैं।

फंड मेनेजमेंट का विश्वास फाइनेंशियल व टेक्नोलॉजी सेक्टर में ज्यादा दिखाई दे रहा हैं। क्योंकि फाइनेंशियल व टेक्नोलॉजी सेक्टर में लगभग 52 फीसदी रकम निवेश की गई हैं। इनके अलावा एनर्जी व हेल्थकेयर इंडस्ट्री में भी 15 फीसदी रकम का निवेश किया गया हैं। फंड की रकम 44 होल्डिंग में निवेशित हैं। फंड की होल्डिंग में शामिल स्टाॅक लार्ज कैप वाली कंपनियों के हैं जिनमें जोखिम कम हैं। इसलिए इस फंड में वन टाइम इन्वेस्टमेंट को लंबी अवधि के लिए निवेश करना अच्छा विकल्प हो सकता हैं।

इसे भी पढ़ें- टाॅप 5 इक्विटी स्माॅल कैप म्यूचुअल फंड जो 2022 में निवेश के लिए बहतर हो सकतें हैं

ICICI प्रूडेंशियल टेक्नोलॉजी फंड

इस फंड ने बीते तीन सालों में 34.26 फीसदी वार्षिक मुनाफा दिया हैं। जबकि पिछले एक साल में 24.53 फीसदी रिटर्न दिया हैं। यह फंड एकमुश्त रकम निवेश करने के लिए बहतर हो सकता हैं। फंड का रिटर्न शानदार रहा हैं। और इसकी होल्डिंग की बात करें तो ना सिर्फ भारतीय शेयर बाजार बल्कि विदेशी बाजार में भी इस फंड ने निवेश किया हुआ हैं।

जो निवेशक विदेशी बाजार में निवेश करना चाहते हैं वे इस फंड के माध्यम से विदेशी बाजार में निवेश का फायदा उठा सकते हैं। यह फंड स्पेशली टेक्नोलॉजी सेक्टर में निवेश के लिए बनाया गया हैं, लगभग 94.4 फीसदी रकम टेक्नोलॉजी सेक्टर के स्टाॅक में ही निवेश की गई हैं।

फंड का एक्सपेंस रेश्यो 0.71 फीसदी हैं। यदि 15 दिनों के भीतर फंड में जमा रकम रिडीम की जाती है तो इसपर 1 फीसदी एग्जिट लोड लागू होता हैं। वर्तमान में फंड मैनेजर के तौर पर प्रियंका खंडेलवाल व वैभव दुसाद कार्यरत हैं। फंड का AUM 4,70,644 करोड़ रुपए हैं।

फंड की होल्डिंग में टाॅप 10 स्टाॅक यें हैं- Infosys Ltd, विप्रो, एचसीएल, टेक महिंद्रा, भारती एयरटेल, टाटा कंसल्टेंसी, एमफैसिस, कॉग्निजेंट टेक्नोलॉजी, माइंडट्री लिमिटेड, व एसेंचर लिमिटेड। आने वाले समय में देखा जाए तो टेक्नोलॉजी सेक्टर में और वृद्धि होने की बहुत ज्यादा संभावना हैं जिसको देखते हुए इस फंड में वन टाइम इन्वेस्टमेंट करना अच्छा विकल्प हो सकता हैं।

इसे भी पढ़ें- म्यूचुअल फंड में पैसा कब और कैसे लगाएं, ऐसा करने पर मिल सकता हैं ज्यादा रिटर्न

LIC MF लार्ज एंड मिडकैप फंड

यह फंड लार्ज और मिडकैप स्टाॅक में निवेश करता हैं। जोखिम के संतुलन को देखते हुए इस फंड में निवेश करना एक अच्छा विकल्प हो सकता हैं। क्योंकि ऐसे फंड में जोखिम लार्ज कैप से ज्यादा व स्माॅल कैप से कम होता हैं। हालांकि रिटर्न लार्ज कैप से ज्यादा व स्माॅल कैप से कम मिलता हैं। ऐसे फंड में लंबे समय के लिए निवेश करना अच्छा साबित हो सकता हैं।

इस फंड ने पिछले तीन साल में लगभग 62.76 फीसदी रिटर्न दिया हैं जो कि वार्षिक रिटर्न 17.63 फीसदी हैं। वहीं पिछले एक साल का रिटर्न 13.59 फीसदी रहा हैं। इस फंड में न्यूनतम 1000 रूपए से इन्वेस्टमेंट शुरू की जा सकती हैं।

फंड ने पिछले तीन साल के दौरान बेंचमार्क से अधिक रिटर्न दिया हैं। साथ ही कैटेगरी फंड की तुलना में भी रिटर्न अधिक रहा हैं। फंड का एक्सपेंस रेश्यो 0.81 फीसदी हैं जबकि एग्जिट लोड 1 फीसदी हैं। इस फंड में मंथली ट्रेंड ऑर्डर के अनुसार वन टाइम इन्वेस्टमेंट करीब 17 फीसदी हैं।

फंड की अगुवाई योगेश पाटिल द्वारा की जाती हैं। इस फंड की होल्डिंग में कुल 64 स्टाॅक हैं। जिनमें सबसे ज्यादा फाइनेंशियल सेक्टर के स्टाॅक शामिल हैं। फाइनेंशियल सेक्टर में करीब 24.8 फीसदी रकम निवेशित हैं। इसके अलावा टेक्नोलॉजी, केमिकल, कंस्ट्रक्शन, हेल्थकेयर, एनर्जी सेक्टर के स्टाॅक भी शामिल हैं।

फंड की टाॅप 10 होल्डिंग में आईसीआईसीआई बैंक, इन्फोसिस, एचडीएफसी बैंक, टाटा कंसल्टेंसी, रिलायंस इंडस्ट्रीज, एवेन्यू सुपरमार्ट, बजाज फाइनेंस, कमिंस इंडिया, अतुल लिमिटेड व एक्सिस बैंक लिमिटेड शामिल हैं।

इसे भी पढ़ें- सबसे ज्यादा रिटर्न देने वाला म्यूच्यूअल फण्ड 2022, अधिक रिटर्न के लिए क्या करें?

एडलवाइस लार्ज एंड मिडकैप फंड

1275 करोड़ रुपए का मौजूदा फंड साइज वाले इस फंड द्वारा बीते तीन सालों का CAGR 18.13 हैं। जबकि पिछले एक साल का CAGR करीब 9.35 हैं। फंड को 5 स्टार रेटिंग प्राप्त हैं। इस फंड में न्यूनतम 1000 रूपए से निवेश शुरू किया जा सकता हैं। इस फंड में वन टाइम इन्वेस्टमेंट के लिए करीब 25.06 फीसदी ऑर्डर हैं। इस फंड ने पिछले तीन व पांच सालों में कैटेगरी रिटर्न से ज्यादा रिटर्न दिया है। साथ ही बैंचमार्क से भी अधिक रिटर्न दिया हैं। हालांकि पिछले एक साल का रिटर्न कैटेगरी रिटर्न से कम रहा हैं।

फंड का मौजूदा एएमयू 78,128 करोड़ हैं। टोटल एसेट्स के अनुसार इस की रेंकिंग भारत में 15 हैं। इसका एक्सपेंस रेश्यो 0.37 हैं जो कि बहुत अच्छा हैं। तथा शुरूआती 12 महीने में बैलेंस रिडीम करने पर 1 फीसदी एग्जिट लोड लागू होता हैं।

मुख्य इंवेस्टमेंट ऑफिसर के तौर पर त्रिदीप भट्टाचार्य व अभिषेक बच्चन कार्यरत हैं। मेनेजमेंट की होल्डिंग को देखते हुए यह फंड लंबे निवेश के लिए बहतर हो सकता हैं। मेनेजमेंट द्वारा करीब 25 फीसदी फंड का निवेश केवल फाइनेंशियल सेक्टर में हैं। इसके अलावा टेक्नोलॉजी, कंस्ट्रक्शन, एनर्जी, ऑटोमोबाइल, हेल्थकेयर जैसे सेक्टर में भी काफी रकम निवेशित हैं।

फंड की होल्डिंग में कुल 64 स्टाॅक हैं जिनमें निवेशित रकम के अनुसार टाॅप 10 स्टाॅक यें हैं- आईसीआईसीआई बैंक, इन्फोसिस, एचडीएफसी बैंक, रिलायंस इंडस्ट्रीज, एसबीआई, एक्सिस बैंक, एबीबी इंडिया, ट्रेंट लिमिटेड, परसिस्टेंट सिस्टम्स, चोलामंडलम इन्वेस्टमेंट एवं फाइनेंस।

इसे भी पढ़े- पोस्ट ऑफिस डबल मनी स्कीम इंटरेस्ट रेट, अवधि, फायदे एवं विशेषताएं

SBI मंथली इनकम प्लान इंटरेस्ट रेट, स्कीम अवधि, फायदे व विशेषताएं

पोस्ट ऑफिस आरडी (Reccuring Deposit) स्कीम क्या हैं, इसमें कितना लाभ होता हैं

इस पेज में कुछ म्युचुअल फंड के डायरेक्ट प्लान के बारे में बताया गया हैं, जिनमें एकमुश्त रकम (Lumpsum Amount) निवेश करने पर अच्छा रिटर्न मिल सकता हैं। हालांकि बाजार की अनिश्चितता को देखते हुए निवेश पर जोखिम रहता हैं।

Disclaimer: यह निवेश के लिए सलाह नहीं हैं। निवेश से पहले अपने फाइनेंशियल एडवाइजर से सलाह जरूर लें। किसी भी लाभ या हानि का जिम्मेदार पैसावालेडाॅटइन नहीं होगा।

Leave a Reply